कर्म (कारक) की परिभाषा क्या है object¼ive½ in hindi definition meaning कर्म (कारक) किसे कहते हैं ?

प्रश्न : कर्म (कारक) को परिभाषित कीजिये ?

उत्तर : हिंदी में कर्म (कारक) (object¼ive½) की परिभाषा निम्नलिखित है –

वाक्य में व्याकरणिक प्रकार्य निभाने वाला (क्रिया से प्रभावित) एक मुख्य अंग । दो प्रकार के कर्म ग्राह्य हैं – उक्त कर्म व अनुक्त कर्म । यथा –
मैंने देवदत्त को चावल दिए ।
अनुक्त कर्म उक्त कर्म
‘कारक सिद्धांत‘ से ‘उक्त कर्म‘ का अर्थ वइरमबजपअम बंेम (कर्मकारक) तथा ‘अनुक्त कर्म‘ का कंजपअम बंेम (संप्रदान कारक) ग्राह्य है । संबंध कारके के भी दो भेद मान्य हैं – कर्ता संबंध (यथा-‘राधा का रोदन‘) व कर्म संबंध (यथा – ‘धनुष का तोड़ना‘)।
भाषाविज्ञान में परसर्ग/पूर्वसर्ग के कर्म का भी विधान है । यथा –
मंदिर के पास अथवा दमंत जीम वििपबम
अधिकार-अनुबंधन व्याकरण में सकर्मक क्रिया से अनुबंधित संज्ञा पदबंध का कर्मकारक मान्य है।

question : what is object¼ive½ in hindi define the term ?

answer : object¼ive½ की हिंदी में डेफिनिशन अर्थात कर्म (कारक) की परिभाषा ऊपर देखिये –