अविधेय क्रिया-रूप की परिभाषा क्या है infinite form in hindi definition meaning अविधेय क्रिया-रूप किसे कहते हैं ?

प्रश्न : अविधेय क्रिया-रूप को परिभाषित कीजिये ?

उत्तर : हिंदी में अविधेय क्रिया-रूप (infinite form) की परिभाषा निम्नलिखित है –

विधेय (क्रिया-रूप) पद का व्यवहार क्रिया और उपवाक्य के व्याकरणिक वर्गीकरण में होता है। विधेय-क्रिया (वाक्यांश) वह है, जो वाक्य (अथवा मुख्य उपवाक्य) में स्वतंत्र रूप से (किसी अन्य क्रिया की सहायता के बिना) प्रयुक्त होती है । विधेय क्रिया के द्वारा पर-प्रत्ययों या पुरुषवाचक सर्वनामों के माध्यम से काल और वृत्ति में औपचारिक अंतर का ज्ञान होता है । दूसरी ओर अविधेय क्रिया-रूप, उपवाक्य में किसी अन्य क्रिया का अंग बनकर आते हैं और उनसे काल तथा वृत्ति के अंतर का पता नहीं चलता । विधेय क्रिया-रूप के उदाहरण हैं –
‘मैं जाती हूँ‘।
‘वे जाते हैं।
अविधेय क्रिया-रूप का उदाहरण है
‘मैं आ सकता हूँ‘।
उपर्युक्त वाक्य में श्आश् क्रियारूप क्रिया का अविधेय रूप है।

question : what is infinite form in hindi define the term ?

answer : infinite form की हिंदी में डेफिनिशन अर्थात अविधेय क्रिया-रूप की परिभाषा ऊपर देखिये –